Tuesday, 7 June 2016

Merging 5 bank, these banks do not have an account else where

साथियों, बैंक भर्ती परीक्षार्थियों के लिए एक रोचक आर्टिकल के तहत आज एमएम टीम आपको कुछ जानकारी बैंकिंग सचेचता (Banking Awareness) तथा इन्टरव्यू (Interview) के लिए उपयोगी है उपलब्ध करवा रही है। आजकल चर्चा में है कि कुछ केन्द्र सरकार (Central Government) द्वारा कुछ बैंकों को विलय (Merging Bank) किये जाने हेतु समीक्षा की जा रही है, तो आपको पता होना चाहिए कि यह बात काफी हद तक सही भी है। वेबसाईट oneindia.com के अनुसार प्राप्त जानकारी को आपके ज्ञानार्थ यहां प्रस्तुत है।



केंद्र सरकार ने सरकारी बैंकों में इंटीग्रेशन और मजबूती देने की दिशा में अहम कदम उठाने का फैसला किया है। वित्त मंत्री (Finance Minister) अरुण जेटली ने कहा कि अभी सरकार भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India[SBI]) में उसके पांच सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक (Bharatiya Mahila Bank) के विलय के मुद्दे पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो जल्द ही इस दिशा में फैसला लिया जाएगा।
अगर एसबीआई में उसके पांच सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक का विलय हो गया तो एसबीआई 37,00,000 करोड़ रुपए के संपत्ति और 50 करोड़ से अधिक ग्राहकों वाला विशालकाय बैंक बन जाएगा।

आपको बता दें भारतीय स्टेट बैंक के पांच सहयोग बैंक (Associate Banks of SBI) हैं। स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर और स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद।
आपको बता दें कि अरुण जेटली ने आम बजट के दौरान भी इस दिशा की ओर संकेत दिया था। ऐसे में उम्मीद की जा रही है सरकार बैंकों के इस एकीकरण को जल्द मंजूरी दे देगी। आपको बता दें कि एसबीआई के सहयोगी बैंकों और महिला बैंकों के प्रस्ताव को आगे बढ़ाया जा चुका है। बस बैंक ने विलय पर सरकार की मंजूरी मांगी है।

No comments:

Post a Comment

Advertisement